top of page

Aapna kaam Khud Karo | अपना काम खुद करो स्टोरी


Motivational Story in Hindi Here you can read many types of Hindi quotes for motivation, motivational story, motivational motivational status, long and short stories in Hindi for success of students.


Story in Hindi



Short Moral Story In Hindi





Story in Hindi - अपना काम खुद करना चाहिए क्युकी किसी दूसरे इंसान को अगर आप काम दे रहें हो जो आपके लिए काफी ज़रूरी है और उसे ना करने से आपका नुकसान हो सकता है तो ये आपकी सबसे बड़ी गलती हो सकती है क्युकी फिर आपके मन में ये डर बना रहेगा की पता नहीं ये काम वक्त पर पूरा होगा की नही होगा या फिर ठीक से पूरा किया जाएगा की नही किया जाएगा इसलिए कहते हैं कि अपना काम खुद से करो ताकि आपको अपने काम की फिक्र न हो और आपका काम वक्त पर और बिना किसी गलती के पूरा हो।



एक गांव मे एक किसान रहता था। जो की काफी अमीर था उसके पास बहुत सारे खेत थे। उस किसान ने अपने सारे खेतो में धान के फसल लगाए थे। ठंडी के मौसम में किसान के खेतो में फसलों के बीच एक चिड़िया ने अपना घोंसला बनाया था। उस चिड़िया के दो बच्चे थे वो बच्चे अभी तक उड़ने के लायक नहीं थे उनके पंख अभी इतने मज़बूत नही थे। चिड़िया दिन भर घूम घूमकर खाना ढूंढकर लाती और शाम को अपने बच्चों को खिलाती ताकि उनका पेट भर सके।


एक दिन दोपहर के वक्त किसान खेत में आ गया और फसलों को देखकर बोला "अब ये सारी फसले तैयार हो गई है और काटने लायक हो गई है कल ही मज़दूरो को बुला कर कटवा दूंगा"।


किसान की ये बात सुन कर चिड़िया के बच्चे बहुत बुरी तरह से डर गए। शाम को जब चिड़िया बच्चो के लिए खाना लेकर आई तब उसने देखा कि बच्चे बहुत डरे हुए हैं चिड़िया ने बच्चो को गले लगाया और पूछा क्या हुआ तुम इतने डरे हुए क्यों हो।





तब बच्चो ने बताया की आज इस खेत का मालिक आया था और वो इस खेत में घूमते हुए फसल को देख रहा था और कह रहा था की अब ये फसल तैयार हो गई हैं मज़दूरों को बुलवा कर कटवा लेना चाहिए।


बच्चो ने चिड़िया से कहा मा हम अभी उड़ने के लायक नही है अगर यह फसल कट गई तो हमारा क्या होगा? चिड़ियां ने बच्चो को समझाया अभी ये फसल नही कटेगीं



पांच दिन बीत गए सातवें दिन मालिक फिर आया और कहने लगा फसल तैयार हो चुकी हैं कोई मज़दूर फसल काटने के लिए तैयार नहीं है सब बहाने बना रहे है। कोई बात नही कल अपने भाइयों को लेकर आऊंगा और फसल कटाऊंगा।



उसी शाम जब चिड़िया खाना लेकर आई तब बच्चो ने किसान की कही हुई सारी बाते चिड़िया को बताई चिड़िया ने इस बार कहा घबराने की कोई ज़रूरत नहीं अभी ये फसल नही कटेगी।


चार दिन बीत गए फिर पांचवे दिन जब चिड़िया खाना लेकर आई तब बच्चो ने उसे बताया कि आज फिर किसान आया था और कह रहा था की भाई लोग रोज़ मेरी बात को कल कल पर टाल रहे हैं फसल अब बिल्कुल तैयार हो चुकी हैं अगर अभी नही कटी तो खराब हो जायेगी एक काम करता हूं मैं ही कल से कटाई का काम शुरू कर देता हूं।


चिड़िया ने जैसे ही बच्चो की इतनी बात सुनी तो वैसे ही चिड़िया ने कहा अब हमारा यहां रुकना ठीक नहीं है हमे तुरंत ही रहने के लिए कोई दूसरी जगह ढूंढनी होगी। बच्चो ने अपनी मां से पूछा मां वो किसान इतने बड़े खेत की फसले अकेले कैसे काटेगा उनके साथ तो कोई मज़दूर भी नही है और उनके भाई भी उनकी मदत नही कर रहे हैं। फिर हमें डरने की क्या ज़रूरत है।


बच्चो की ये बात सुनकर चिड़िया ने कहा बच्चो यहां हमे एक सीख मिलती हैं अब तक वो किसान दूसरो के भरोसे था लेकिन अब उसने खुद पर भरोसा किया है और ये फैसला ले लिया है की वो अपना काम करेगा और जो लोग अपना काम खुद से करना जानते हैं उनके काम हर हाल में पूरे होते हैं जो खुद पर भरोसा करते हैं उन्ही के काम वक्त पर पूरे होते हैं। इसलिए अपना काम खुद से ही करना चाहिए और तुम्हारे पंख भी अब मज़बूत हो चुके हैं तुम भी अब उड़ सकते हो


ये कहकर चिड़िया अपने बच्चों के साथ उड़ गई।


Read also :










2,415 दृश्य1 टिप्पणी

संबंधित पोस्ट

सभी देखें
bottom of page