top of page

Best Educational story for students in Hindi | सीख देने वाली कहानी

Motivational Story in Hindi Here you can read many types of Hindi quotes for motivation, motivational story, motivational motivational status, long and short stories in Hindi for success of students.


Best Educational story for students in Hindi | सीख देने वाली कहानी

Best Educational story for students in Hindi दोस्तों ये बात तो सच है की ज्ञान और शिक्षा ऐसे अनमोल तोहफे है जिसे हासिल करना बेशक मुश्किल ज़रूर है लेकिन अगर आप कठिन परिश्रम करना जानते है और चाहते हैं कि आपके पास भी वो सब कुछ हो जो हर सफल इंसान के पास हैं जैसे बंगला, पैसा, गाड़ी और सबसे ज़रूरी इज़्ज़त तो आपको इनको पाने के लिए शिक्षा और ज्ञान को हासिल करना बहुत ज़रूरी है।


इसलिए आज हम आपके लिए लेकर आए हैं एक ऐसी कहानी जिससे आपको शिक्षा और ज्ञान का महत्व समझ में आएगा।





तीन दोस्तो की अलग - अलग सोच


एक बार की बात है एक राजा अपने सिपाहियों के साथ जंगल में शिकार के लिए गया। लेकिन अचानक बारिश का मौसम होने की वजह से आकाश में अंधेरा छाने लगा राजा अपने महल से भटक गया और सिपाहियो से अलग हो गया।


भूख प्यास और थकावट की वजह से उस राजा की हालत बहुत बुरी हो गई थी। राजा बहुत परेशान हो गया लेकिन कुछ वक्त बाद राजा को तीन बच्चे दिखाई दिए तीनो बच्चे काफी अच्छे दोस्त लग रहे थे।


राजा ने उन तीनो बच्चो को अपने पास बुलाया और कहा "क्या तुम मेरे खाने के लिए खाना और पीने के लिए पानी ला सकते हो?" ये सुनकर तीनो बच्चो ने कहा "जी हम अभी घर जाकर आपके लिए कुछ लेकर आते हैं।" ये कहकर तीनो बच्चे अपने गांव की तरफ भागे और अपने - अपने घर से राजा के खाने के लिए काफी कुछ ले आए।


राजा बच्चों के जोश और प्यार को देखकर बहुत खुश हुए और तीनो बच्चो से एक सवाल पूछा "बच्चो मुझे आज तुम तीनो से मिलकर बहुत खुशी हुई है तुम अपने जीवन में क्या करना चाहते हो मुझे बताओ मैं तुम्हारे लिए कुछ करना चाहता हूं बोलो तुम्हे क्या चाहिएं।"


ये सुनकर तीनो बच्चे कुछ देर तक सोचते रहे और फिर थोड़ी देर में उनमें से एक लड़के ने कहा "मुझे धन चाहिए मैने कभी दो वक्त की रोटी नहीं खाई कभी अच्छे कपड़े नही पहने इसलिए मुझे सिर्फ धन ही चाहिए।"


राजा ने कहा "ठीक है मैं तुम्हे इतना धन दूंगा की तुम हमेशा खुश रहोगे" ये सब सुनकर इस बच्चे की खुशी का ठिकाना नहीं रहा।अब दूसरे बच्चे की बारी थी तो राजा ने दूसरे बच्चे से पूछा "बताओ तुम्हे क्या चाहिएं?"


दूसरे बच्चे ने कहा मैं चाहता हु की मुझे मुझे एक बंगला और घोड़ा गाड़ी दे मिल जाय क्युकी मेरा घर छोटा है और बहुत बुरी हालत में है?" ये सुनकर राजा ने कहा "ठीक है मैं तुम्हे बाला और घोड़ा गाड़ी दूंगा।"


अब तीसरे बच्चे की बारी थी तो राजा ने तीसरे से पूछा "बताओ तुम्हे क्या चाहिएं?" तीसरे बच्चे ने कहा "मुझे ना धन चाहिए और ना ही बंगला मुझे आप ऐसा आशीर्वाद दीजिए की मैं विद्वान बन जाऊं और शिक्षा पूरी होने के बाद अपने देश की सेवा करने के लायक बन जाऊं।" जब राजा ने तीसरे बच्चे की बात सुनी राजा राजा तीसरे बच्चे से बहुत खुश हुए और राजा ने उस तीसरे बच्चे के लिए सर्वोत्तम शिक्षा का इंतेज़ाम करवाया।


तीसरा बच्चा बहुत मेहनती था इसलिए दिन रात एक करके उसने पढ़ाई की और बहुत बड़ा विद्वान बन गया और सही वक्त आने पर राजा ने उसे अपने राज्य का मंत्री बना दिया।


अचानक राजा को सालो पुरानी वो घटना याद आ गई। राजा ने मंत्री से कहा "कई सालो पहले तुम्हारे साथ जो दो बच्चे थे अब उनका क्या हाल है मैं एक बार चाहता हूं कि तुम तीनो से एक साथ फिर से मिलु एक काम करो अपने तीनो दोस्तो को कल खान पर आमंत्रित करलो। मंत्री ने अपने दोस्तो के पास ये संदेश भेज दिया।


अगले दिन तीनो दोस्त राजा के सामने उपस्थित हुए राजा ने कहा "आज मैं तुम तीनों को फिर से एक साथ देखकर बहुत खुश हूं। राजा ने मंत्री के कंधे पर हाथ रख कर कहा इनके बारे में तो मैं जानता हूं, तुम दोनो मुझे अपने बारे में कुछ बताओ?"



ये सुनकर जिस लड़के ने धन मांगा था उस लड़के ने कहा "महाराज मैं बहुत परेशान हूं आपने जितना धन मुझे दिया था उतना धन पा कर मैं बहुत आलसी हो गया और मैने बहुत सी बेकार चिज़ो में अपने धन को बर्बाद किया और मेरा बहुत सारा धन चोरी भी हो गया इसलिए मैं आज उसी हालत में हूं जिसमे आपने मुझे पहले देखा था।"



ये सुनकर राजा ने दूसरे लड़के से पूछा "बताओ तुम कैसे हो?" दूसरे लड़के जवाब दिया "महाराज मेरा भी कुछ ऐसा ही हाल है मै तो अपने बंगले में बहुत खुशी और सुकून से रह रहा था लेकिन कुछ वक्त पहले आई बाड़ में मेरा सब कुछ बर्बाद हो गया मैं भी उसी हाल में हूं जिसमे आपने मुझे पहले देखा था।"


ये सब सुनकर राजा ने कहा "अब इस बात को हमेशा याद रखना की धन, दौलत, संपत्ति हमारे पास हमेशा नही रहती लेकिन ज्ञान और शिक्षा ऐसे अनमोल खज़ाने हैं जो हमेशा हमारे पास रहते है और इसे कोई चुरा भी नही सकता अगर तुम शिक्षा में विद्वान बन जाओगे तो धन और संपत्ति अपने आप तुम्हे मिल जायेंगे।


सीख : धन पाने का लालच हर किसी को होता है हर कोई चाहता है की वो अच्छे घर में रहे अच्छा खाना खाए और अच्छे कपड़े पहनकर एक सेठ की ज़िंदगी जिए लेकिन ज्ञान और शिक्षा के बिना अगर आपको बंगला, पैसा, गाड़ी मिल भी जाए तब भी वो आपके किसी काम का नही क्युकी तब आपको समझ ही नही आयेगा की इसे संभालना कैसे है


अगर आपको motivational story in Hindi पसंद है तो आप हमारी वेबसाइट nazsite  को subscribe  ज़रूर करे


   अगर आप किसी आर्टिकल hindi motivation से related कोई भी article हो story, quotes, shayari या फिर biography को हमारी वेबसाइट पब्लिश करना चाहते हैं तो हमारे Email-id : nazsite007@gmail.com पर send करे।


अगर हमे आपका आर्टिकल अच्छा लगा तो हम आपके नाम और फोटो के साथ आपके आर्टिकल को पब्लिश करेगें और फ्यूचर में भी आपके साथ काम करेंगे




4,149 दृश्य1 टिप्पणी

संबंधित पोस्ट

सभी देखें
bottom of page