top of page

Information about SEO in Hindi | SEO के बारे में जानकारी हिंदी में



Information about SEO in Hindi | SEO के बारे में जानकारी हिंदी में

Information about SEO in Hindi: आज के वक्त में जैसे जैसे लोग इंटरनेट से जुड़ रहे हैं वैसे वैसे इंटरनेट पूरी दुनिया में फैल रहा है। इंटरनेट की दुनिया में यूज़र की संख्या इतनी तेज़ी से बड़ रही है जैसे की लोग इंटरनेट में मज़ा नहीं करते बल्कि लोगो ने अब इंटरनेट को अपनी आदत बना लिया है। इसी वजह से लोग अपने व्यापार को इंटरनेट के माध्यम से और आगे बड़ाना चाहते हैं।


इसी वजह से आज के वक्त में ऑनलाइन बिज़नेस स्कोप काफी बड़ चुका है कई सारे लोग अपने व्यापार (Business) को ऑनलाइन लाकर अच्छे खासे पैसे कमा रहे हैं। अब बात करे Clothes, Shoes, Food , Grocery, Electronic, घर का सामान आपको हर चीज़ ऑनलाइन मिल ही जाती हैं। इसी वजह से SEO एक बड़ा Resource बन जाता है ऑनलाइन शॉपिंग या बिज़नेस का


SEO का Full Form है (Search Engine Optimization) और इसकी मदत से हम अपने किसी भी प्रोडक्ट या सर्विस को आसानी से लोगो तक पहुंचा सकते है। और Seo Marketing करने का एक unpaid तरीका है। इसी वजह से इसकी उपयोगिता बड़ रही है।


फाइनेंशियल प्रोब्लेम की वजह से कई लोग अपने प्रोडक्ट को ads के जरिए सेल नही कर पाते उन सभी लोगो के लिए Seo एक बड़ा Factor है।


इसलिए आज हम आपके लिए लेकर आए हैं SEO और SEO digital marketing in hindi

10 से Related ज़रूरी जानकारी तो चलिए शुरू करते है -


Search Engine Optimization को हिंदी में हम कहते हैं खोज इंजन अनुकूलन अब Search Engine Optimization को समझने के लिए हम इसे दो भाग में divide कर देंगे एक में होगा सर्च इंजन जिसका मतलब है अगर हम कोई भी डेटा देखना चाहते हैं तो इसके लिए जब हम सर्च करते है तो सर्च इंजन वो डेटा इंटरनेट में कहीं से भी खोज कर हमे देता है।दुसरा है Optimization जिससे सर्च इंजन हमे वो डेटा बिलकुल सही तरीके से देता है। अगर हमे अपनी website की ranking search engine results page पर अच्छी रखनी है तो सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन करना सबसे अच्छा तरीका है । क्युकी ये पूरी तरह से ऑर्गेनिक तरीका है SERP मतलब search engine results page पर Rank करने का


SERP पर rank करने के दो तरीके होते है। पहला है paid तरीका और दूसरा है unpaid तरीका paid ranking के लिए हमे Search Engine Marketing को समझकर उसका इस्तेमाल करना होता है जब की दुसरी तरफ Seo यानी Search Engine Optimization की strategy का इस्तेमाल करके हम अपनी Website को Rank करा सकते हैं।


Search engine optimization एक ऐसी process है जो Digital Marketing Category के under आती है, जो Online Marketing का एक बड़ा हिस्सा है। SEO का Digital world में एक बड़ा role निभाता है। यह ऑनलाइन मार्केटिंग के प्रमुख प्लेटफार्मों में से एक है।





Seo यह काम कैसे करता हैं-


अगर आपको Seo काम कैसे करता है इस चीज़ को समझना है तो आपको ये जानना भी ज़रूरी है की आपको अपनी page का या फिर website का seo ठीक से करना है अगर आपके page का seo ठीक से किया होगा तभी वो SERP पर रैंक करेगा।


अब ठीक से किया होगा मतलब है


जब हम किसी Page का seo करते हैं तो तीन चीज़ों का ध्यान रखते हैं जिसमे है :


ON PAGE SEO.

OF PAGE SEO.

TECHNICAL SEO.


हम आपको उदहारण देकर इस पूरे Process के बारे में समझा सकते हैं


उदहारण - अगर आपने Indian Food Recipe की Website बनाई है और आपने उसमे एक पेज ऐसा बनाया जिसमे आपने dhokle ki recipe बताई तो अगर आपने अपने page का seo ठीक से किया होगा। तो कोई भी अगर सर्च इंजन पर कोई dhokle से related या phir Indian food से related सर्च करेगा तो उसे आपका page dikhaya जाएगा



सर्च इंजन क्या काम करता हैं?


इस बात को अगर आपने समझ लिया की सर्च इंजन कैसे काम करता है तो ये भी समझ लेते हैं की सर्च इंजन काम क्या करता है।

क्युकी कोई भी वेबसाइट वो सर्च इंजन पर ही रैंक करती है इसलिए आखिर सर्च इंजन क्या काम करता है ये भी जानना ज़रूरी है।


सर्च इंजन जैसे Google, Bing, Yahoo Ext. ये Platform काम करते है । इनके काम करने का तरीका इस प्रकार है।


  • Crawling

  • Indexing

  • Ranking


1. Crawling.

Crawling की प्रक्रिया ये सर्च इंजन का पहला भाग है जिसमे भी आप रैंकिंग करना चाहते हैं भले ही वो Google हो या Bing हो या कोई और platform इसके bots (spider) आपकी website पर आते और scan करते है कि आपकी website किस category की है जैसे - news website, E -Commerce website, Blogging website Ext.



2 . Indexing


जब आपकी website crawling होकर indexing के लिए आती है तो indexing का काम होता है उसको database में भेजना database में हर category के लिए अलग अलग slot बने होते है जैसे की अगर कोई beuty tips की website है तो वो crawl indexing के लिए आयेगी तो वो डेटाबेस में beauty tips की category में ही आयेगी


3. Ranking


Ranking के वक्त हमारी website search engine पर rank करती है जब भी कोई यूज़र कोई Query करेगा जैसे what is digital marketing इस Query में जिस पेज की CRAWLLING, INDEXING, ON PAGE SEO/ OFF PAGE SEO/ TECHNICAL SEO जिसने इन सब चीज़ों का ध्यान रखकर page बनाया होगा उस ही का page SERP पर रैंक करेगा



Techniques of search engine optimization – सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन के तकनीक


Search engine optimization करने के तीन Techniques होती हैं :


  • White Hat SEO

  • Black Hat SEO

  • Grey Hat SEO


White Hat SEO वो होते है जो सर्च इंजन की सभी guideline को फॉलो करते है । White Hat SEO को ही सबसे बेहतरीन तरीका माना जाता है SEO करने का।


अब बात करते हैं Black Hat SEO ke बारे में। ये Black Hat SEO होते हैं ।जो RANK तो बहुत जल्दी करते है पर ये सर्च इंजन की किसी भी guideline को फॉलो नही करते।


Grey Hat SEO वो होते हैं जो न तो White Hat SEO की तरह काम करते है और न ही Black Hat SEO की तरह काम करते है बल्कि ये White Hat SEO और Black Hat SEO का Combination होते है।


Types of SEO in hindi


SEO को कुल तीन भागों मे बाटा गया है जो इस प्रकार हैं -


  • ON PAGE SEO

  • OFF PAGE SEO

  • TECHNICAL SEO

  1. WHAT IS ON PAGE SEO – ऑन पेज एस-ई-ओ क्या हैं ?


On Page SEO में हमे अपने कंटेंट को अनुकूलित (customized) करना होता है। मतलब अपनी website या page में किया गया कोई भी बदलाव ON Page SEO का हिस्सा होता है। SEO में हमे Optimization का खास ध्यान रखना पड़ता हैं।


हमे अपनी website की Image को भी Optimize करना होता है । जैसे हमे images में alt text को use करके उसके size और quality का भी ध्यान रखना ज़रूरी है और हमारे Meta Tittle की length 60 शब्दों से ज़्यादा नहीं होनी चाहिए और Meta Description की length 150 या फिर 160 शब्दो तक होनी चाहिए।


ON PAGE SEO CHECKLIST IN HINDI


  • META TITTLE OPTIMIZATION

  • META DESCRIPTION OPTIMIZATION

  • META KEYWORDS OPTIMIZATION

  • IMAGE OPTIMIZATION

  • HEADING TAG OPTIMIZATION

  • PROPPER KEYWORDS SELECTION

  • CONTENT OPTIMIZATION

  • EEAT OPTIMIZATION

  • INTERNAL LINK OPTIMIZATION

  • EXTERNAL LINKS OPTIMIZATION

  • URL STRUCTURE

  • GEO-TAGGING ( local SEO )


Internal link -


Internal link का मतलब आंतरिक लिंक होता है। मतलब अपने ही पेज को target करना जैसे आपने अगर page no. 2 बनाया और उसमे आपने page no. 1 का लिंक लगा दिया तो उस लिंक को हम Internal link कहेंगे।


External links -


External links वो होते हैं जो दूसरी website पर लगाए जाते हैं। उदाहरण : अगर Intagram का link Facebook या किसी दूसरी website पर लगा है तो वो External link होगा



WHAT IS OFF PAGE SEO – ऑफ पेज एसईओ क्या हैं


OFF PAGE SEO में हमे अपनी WEBSITE का प्रमोशन करना होता है। OFF PAGE SEO में हमे अपनी website के लिए backlinks बनाने होते है backlink की मदत से हम अपनी website ज़्यादा से ज़्यादा लोगो को दिखाकर Promote कर सकते है।


OFF PAGE SEO में हमे वेबसाइट के अंदर कोई काम करना नही होता बल्कि वेबसाइट के बाहर काम करना होता है।


WHAT IS BACKLINK - BackLink क्या हैं


BACKLINK LINK वो link होते है जो अपनी website पर नहीं बल्कि दूसरो की website पर बनाए जाते है। जब हम दूसरो की website पर लिंक बनाते हैं तो हम उस link के ज़रिए दूसरो की website से लोगो को अपनी website पर ला सकते हैं।


जैसे अगर आपने एक नई website बनाई और आपने instagram पर एक Post डाली और उस पोस्ट में आपने अपनी website का लिंक बनाया तो उस link को backlink कहा जायेगा। अगर आप अपनी website को छोड़कर किसी भी अलग प्लेटफॉर्म पर बना रहे हो तो उस link को backlink कहा जाता है।


OFF PAGE SEO को सबमिशन के नाम से भी जाना जाता है इसमें हम दूसरो की website पर अपनी website को submit करते हैं।


OFF PAGE SEO CHECKLIST IN HINDI


  • SEARCH ENGINE SUBMISSION

  • SOCIAL BOOKMARKING

  • GUEST POSTING

  • IMAGE SUBMISSION

  • VIDEO SUBMISSION

  • ARTICLE SUBMISSION

  • FREE CLASSIFIED SUBMISSION

  • WEB 2.0 SUBMISSION

  • PDF/PPT SUBMISSION

  • INFO- GRAPHIC SUBMISSION

  • Q/A SUBMISSION


WHAT IS TECHNICAL SEO – टेक्निकल एसईओ क्या है

TECHNICAL SEO में हम technically सब चीज़ों को Optimize करते हैं। Technical SEO में हमे bots की मदत करनी होती हैं जिससे indexing or crawlling आसानी से हो जाए और वो हमारी website को आसानी से जान जान सके।


TECHNICAL SEO में हमे कुछ बातो का ध्यान रखना होता है:


TECHNICAL SEO CHECKLIST IN HINDI -


  • CRAWLING AND INDEXING OPTIMIZATION

  • MOBILE FRIENDLY SITE

  • PAGE SPEED OPTIMIZATION

  • SECURE WEBSITE (SSL)

  • CREATE ROBOT. TXT FILE

  • SITE MAP CREATION


CRAWLING AND INDEXING OPTIMIZATION


इसमें हमे bots (spider) को अपनी ज़रूरी जानकारी देनी होती है जैसे हमारी website में कितना data है हमारी website किस category की है हमारी website की location क्या है हमारी website में किन किन चीज़ों को crawl और index करना है ये सब जानकारी हमे bots ko बतानी होती है।


MOBILE FRIENDLY SITE


SEO me website का Mobile Friendly होना बहुत ज़रूरी होता है। क्युकी internet के total users में से लगभग 80% users mobile device से ही इंटरनेट use करते हैं।

मोबाइल फ्रेंडली वेबसाइट का मतलब आपकी वेबसाइट मोबाइल responsiv होनी ज़रूरी है। जैसे WEBSITE STRUCTURE, WEBSITE IMAGES, WEBSITE CONTENT, WEBSITE NAVIGATION EXT.


PAGE SPEED OPTIMIZATION


PAGE SPEED हमारी website का एक बहुत बड़ा हिस्सा है

हमारी website की Page Speed का पूरा असर user पर पड़ता हैं। अगर आपकी website की page speed अच्छी नही होगी तो page की loding time ज़्यादा होने की वजह से user experience पर बुरा असर होगा। इसलिए page speed का अच्छा होना बहुत ज़रूरी है।


SECURE WEBSITE (SSL)


हमे अपनी website को ko secure रखना चाहिए हमे अपनी website में SECURE SOCKET LAYER (SSL) CERTIFICATE। लगाना ज़रूरी है। जब हम HOSTING लेते हैं तभी हमे इस बात का ध्यान रखना चाहिए की हमे ये CERTIFICATE मिल रहा है की नही इस CERTIFICATE से आपकी WEBSITE SECURE रहती हैं और जब भी कोई USER आपकी WEBSITE पर आता है तब वो ये देखता है की आपकी WEBSITE में SSL लगा है तब वो सुरक्षित महसूस करता है।


CREATE ROBOT. TXT FILE


इस File का इस्तेमाल करके हम bots को ये बताते हैं की

किन - किन चीज़ों को crawl करना है और किन - किन चीज़ों को कर नही करना है। इस File में हम crawler से request करते हैं की हमारे privcy वाले pages index को न किया जाए।


हमे अपने pages और website की SEO checking करते रहना चाहिए जिसके लिए हम आपको seo checking tools (App) के बारे में बताएंगे।



SITE MAP CREATION


इस File में हम अपने website की हर एक जानकारी रखते हैं जिससे bots को हमारी website के बारे में हर एक जानकारी आसानी से मिल जाती है। Site Map बनाने से search engine को हमारी website को crawl और index करने में आसानी होती हैं।


SEO auditing Tool list –



Conclusion निष्कर्ष


दोस्तो आज हमने आपको Seo ke बारे में पुरी जानकारी देने की कौशिश की है अगर आपको Seo से या digital marketing से रिलेटेड कोई भी डाउट है तो आप कमेंट करके हमसे ज़रूर पूछे


हमे पूरी उम्मीद है की आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया होगा और इसमें आपको अपने सभी सवालों के जवाब भी मिल गए होंगे अगर हां तो इस पोस्ट को अपने friends के साथ ज़रूर share करें



248 दृश्य0 टिप्पणी

संबंधित पोस्ट

सभी देखें
bottom of page